Latest


27 फरवरी की रात को फगवाड़ा में हुए गोली कांड का जल्द कर सकती है पुलिस खुलासा




27 फरवरी की देर रात को फगवाड़ा के न्यू माडल टाऊन ईलाके में हुए गोलीकांड को लेकर पुलिस गोली चलाने वाले युवकों के बेहद करीब पहुंच गई है और सूत्रों की मानें तो पुलिस जल्द ही इस पूरे मामले का खुलासा कर सकती है।

 

गौर हो कि 27 फरवरी की देर रात को जिला कपूरथला के फगवाड़ा शहर के न्यू माडल टाऊन ईलाके में एक गोली कांड हो गया था, जिसमें एक ब्रीज़ा कार में सवार होकर आए युवकों द्वारा न्यू माडल टाऊन में रहने वाले रविंदर कुमार स्वानी के घर के बाहर लगातार करीब 5 राऊंड फायर किए गए थे। युवकों द्वारा चलाई गई इस गोली से ईलाके में दहशत का माहौल बन गया था और पुलिस के यह मामला हल करना गले की हड्‌डी बन गया था, कारण कि उन दिनों में फगवाड़ा में लूट और चोरी जैसी वारदातें काफी हो रही थी और ऐसे में शहर के पाश ईलाके में गोली चलना पुलिस की इज्जत पर दांव लगा रहा था।

 

ऊपर से गोली भी उस व्यक्ति के घर के बाहर चली जिसका किसी से ना तो शहर में झगड़ा और ना ही कोई और पंगा किसी ने सुना हो, जिसे लेकर पुलिस भी काफी हैरानी में थी कि जिस व्यक्ति का शहर में कभी कोई पंगा नही हुआ और नही ही कोई बहसबाज़ी ऐसे में इस व्यक्ति के घर के बाहर गोली कौन चला गया, हालांकि सूत्रों की मानें तो पुलिस अंदर ही अंदर मामले को फिरौती से लेकर भी जोड़ रही थी, लेकिन जब पुलिस के सामने सब कुछ साफ हुआ तो मामला कुछ और ही निकला।

 

पुलिस सूत्रों की माने तो मामला शहर के एक प्रसिद्व सुनार की दुकान के दो भाईयों में हुई घरेलू बात निकली, जिसमें करन स्वानी जिसके घर के बाहर गोली चली ने सुनार भाईयों में से छोटे भाई का साथ दिया था, जिस बात की टसल सुनार भाईयों में से बड़े भाई के बेटे ने दिल में रख कर अपने दोस्तों से यह काम करवाया। पुलिस सूत्रों की माने तो पुलिस ने गोली चलाने वाले युवकों को भी ढूंढ लिया है जोकि जालंधर ईलाके के बताए जा रहे है। हालांकि मामले की असल तस्वीर सामने आने के बाद सुनार भाईयों और करन स्वानी के बीच बैठक भी करवाई जा रही है कि मामले को दबा दिया जाए, लेकिन मामला पुलिस की भी इज्जत का बना हुआ था जिस वजह से यह बात सिरे नही लग रही दिखाई दे रही है, जिसके बाद सुनार के बेटे को बचाने के लिए जिसके कहने पर उसके दोस्तों ने यह काम किया हर संभव प्रयास किया जा रहा है और नेताओं से लेकर कई पुलिस के आला अधिकारियों के साथ भी बैठक की जा रही है कि किसी तरह उनके बेटे का नाम पूरे मामले में ना आए।

 

अब देखना यह होगा कि पुलिस द्वारा मामले की पूरी सच्चाई को सामने लाया जाएगा या फिर राजनीतिक और ऊंची पहुंच का दबाव इस मामले को कुछ हद तक दबा पाएगा।